जननी जन्मभूममश्च: स्वर्गादपि र्रीयसी”

जननी जन्मभूममश्च: स्वर्गादपि र्रीयसी”

Leave a Reply